Aarambh Hai Prachand Lyrics (हिंदी & English) – Piyush Mishra | Gulaal

Aarambh Hai Prachand Lyrics: Aarambh Hai Prachand is Hindi Song from the Movie “Gulaal” sung by Piyush Mishra. Aarambh Hai Prachand music given by Vishal & Shekhar. Aarambh Hai Prachand Lyrics written by Javed Akhtar.

Aarambh Hai Prachand Song Credits

Song: Aarambh Hai Prachand
Singer: Piyush Mishra
Music: Vishal & Shekhar
Lyrics: Javed Akhtar
Movie: Gulaal (2009)
Label: T-Series
Genre: Hindi Songs

Aarambh Hai Prachand Lyrics in Hindi

आरंभ है प्रचंड बोले मस्तकों के झुंड
आज जंग की घड़ी की तुम गुहार दो

आरंभ है प्रचंड बोले मस्तकों के झुंड
आज जंग की घड़ी की तुम गुहार दो
आन बाण शान या कि जान का हो दान
आज एक धनुष के बाण पे उतार दो

आरंभ है प्रचंड बोले मस्तकों के झुंड
आज जंग की घड़ी की तुम गुहार दो
आन बाण शान या कि जान का हो दान
आज एक धनुष के बाण पे उतार दो

आरंभ है प्रचंड

मन करे सो प्राण दे
जो मन करे सो प्राण ले
वोही तो एक सर्वशक्तिमान है
मन करे सो प्राण दे
जो मन करे सो प्राण ले
वोही तो एक सर्वशक्तिमान है

विश्व की पुकार है
ये भागवत का सार है
कि युद्ध ही तो वीर का प्रमाण है
कौरोवों की भीड़ हो या
पांडवों का नीड़ हो
जो लड़ सका है वो ही तो महान है

जीत की हवस नहीं
किसी पे कोई वश नहीं
क्या ज़िन्दगी है ठोकरों पे मार दो
मौत अंत है नहीं तो मौत से भी क्यूँ डरें
ये जाके आसमान में दहाड़ दो

आरंभ है प्रचंड बोले मस्तकों के झुंड
आज जंग की घड़ी की तुम गुहार दो
आन बाण शान या कि जान का हो दान
आज एक धनुष के बाण पे उतार दो

आरंभ है प्रचंड

वो दया भाव या कि शौर्य का चुनाव
या कि हार का वो घाव तुम ये सोच लो
वो दया भाव या कि शौर्य का चुनाव
या कि हार का वो घाव तुम ये सोच लो
या की पुरे भाल पे जला रहे विजय का लाल
लाल यह गुलाल तुम ये सोच लो
रंग केशरी हो या मृदंग केशरी हो
या कि केशरी हो ताल तुम ये सोच लो

जिस कवि की कल्पना में ज़िन्दगी हो प्रेम गीत
उस कवि को आज तुम नकार दो
भीगती मासों में आज, फूलती रगों में आज
आग की लपट का तुम बघार दो

आरंभ है प्रचंड बोले मस्तकों के झुंड
आज जंग की घड़ी की तुम गुहार दो
आन बाण शान या कि जान का हो दान
आज एक धनुष के बाण पे उतार दो

आरंभ है प्रचंड
आरंभ है प्रचंड
आरंभ है प्रचंड

Aarambh Hai Prachand Lyrics

Aarambh Hai Prachand Lyrics in English

Aarambh Hai Prachand Bol Mastakon Ke Jhund
Aaj Jung Ki Ghadi Ki Tum Guhaar Do
Aan Baan Shaan Ya Ki Jaan Ka Ho Daan Aaj
Ik Dhanush Ke Baan Pe Utaar Do

Aarambh Hai Prachand

Mann Kare So Praan De, Jo Mann Kare So Praan Le
Wahi Toh Ek Sarvshaktimaan Hai
Vishv Ki Pukaar Hai Yeh Bhaagwat Ka Saar Hai
Ki Yuddh Hi Veer Ka Pramaan Hai
Kauravo Ki Bheed Ho Ya, Paandavo Ka Neerd Ho
Jo Lad Saka Hai Woh Hi Toh Mahaan Hai
Jit Ki Hawas Nahi, Kisi Pe Koyi Vash Nahi
Kya Jindagi Hai Thokaro Pe Maar Do
Maut Ant Hai Nahi Toh Maut Se Bhi Kyun Dare
Jaake Aasmaan Mein Dahaad Do

Aarambh Hai Prachand

Aan Baan Shaan Ya Ki Jaan Ka Ho Daan Aaj
Ik Dhanush Ke Baan Pe Utaar Do
Aarambh Hai Prachand
Woh Daya Ka Bhaav Ya Ki Shaurya Ka Chunaab
Ya Ki Haar Ka Woh Ghav Tum Yeh Soch Lo
Yaa Ki Pure Bhaal Par Jala Rahe Vijay Ka Laal
Laal Yeh Gullal Tum Soch Lo
Rang Kesari Ho Ya Mridang Kesari Ho
Ya Ki Kesari Ho Taal Tum Yeh Soch Lo
Jis Kavi Ki Kalpana Mein Jindagi Ho Prem Geet
Uss Kavi Ko Aaj Tum Nakaar Do
Bhigati Maso Mein Aaj, Phulati Ragon Mein Aaj
Jo Aag Ki Lapat Ka Tum Bakhaar Do

Aarambh Hai Prachand

1 Comment

Comments are closed.

%d bloggers like this: