Aadmi Chutiya Hai Lyrics (हिंदी & English) – Rahgir

Aadmi Chutiya Hai Lyrics: Aadmi Chutiya Hai is a Hindi Song sung by Rahgir. Aadmi Chutiya Hai music composed by Rahgir. Aadmi Chutiya Hai Lyrics written by Rajgir.

Aadmi Chutiya Hai Song Credits

Song: Aadmi Chutiya Hai
Singer: Rahgir
Music: Rahgir
Lyrics: Rahgir
Label: Rahgir Live
Genre: Hindi Songs

Aadmi Chutiya Hai Lyrics

Aadmi Chutiya Hai Lyrics in Hindi

फूलों की लाशों में ताज़ागी चाहता है,
आदमी चूतिया है, कुछ भी चाहता है।
जिंदा है तो आसमान में उड़ने की ज़िद है,
मर जाए तो सडने को ज़मीन चाहता है।
आदमी चूतिया है, कुछ भी चाहता है।

काट के सारे झड़ वाद, मकान बना लिया खेत में,
सीमेंट बिछा कर जमीं साजा दी, मार के कीडे रेत में।
लगा के परदे चारो और, क़ैद है चार दीवारी में
मिट्टी को छुने नहीं देता, मस्त है किसी खुमारी में
और वो ही आदमी..
अपने घर के आगे नदी चाहता है।
आदमी चूतिया है, कुछ भी चाहता है।

टाग के बस्ता, उठा के तंबू, जाए दूर पहाड़ में,
वहा भी डीजे दारू मस्ती, चाहे शहर उजादों मेन,
फिर शहर बुलाए उसे तो जाता है छोड़ तबाही पीछे,
कुदरत को कर दागदार सा, छोड के अपनी स्याही पीछे,
और वही आदमी वापसी जकार,
फिर से वही हरियाली चाहता है..
आदमी चूतिया है, कुछ भी चाहता है।

फूलों की लाशों में ताज़ा चाहता है,
आदमी चूतिया है, कुछ भी चाहता है।
जिंदा है तो आसमान में उड़ने की ज़िद है,
मर जाए तो उदास को ज़मीन चाहता है।
आदमी चूतिया है, कुछ भी चाहता है।

Aadmi Chutiya Hai Lyrics in English

Phoolon ki laashon men taazgee chahta hai,
Aadmi Chutiya hai, Kuch bhi chahta hai.
Zinda hai to aasmaan men udne ki zid hai,
Mar jaaye to sadne ko zameen chahta hai.
Aadmi Chutiya hai, Kuch bhi chahta hai.

Kaat ke saare jhaad waad, makaan bana liya khet men,
Cement bichha kar zameen sajaa di, maar ke keede ret men.
Lagaa ke parde charon aur, qaid hai chaar deewari men.
Mitti ko chhoone nahin deta, mast hai kisi khumaari men.
Aur Wo hi aadmi..
Apne ghar ke aage nadi chahta hai.
Aadmi chutiya hai, Kuch bhi chahta hai.

Taang ke basta, utha ke tambu, jaaye door pahadon men,
wahan bhi DJ daaru masti, chaahe shahar ujaadon men,
fir shahar bulaaye usko to jaata hai chhod tabaahi peeche,
kudrat ko kar daagdaar sa, chhod ke apni syaahi peeche,
aur wahi aadmi wapas jakar,
fir se wahi hariyaali chahta hai..
Aadmi chutiya hai, kuch bhi chahta hai.

Phoolon ki laashon men taazgee chahta hai,
Aadmi Chutiya hai, Kuch bhi chahta hai.
Zinda hai to aasmaan men udne ki zid hai,
Mar jaaye to sadne ko zameen chahta hai.
Aadmi Chutiya hai, Kuch bhi chahta hai.

Aadmi Chutiya hai | Rahgir || आदमी चूतिया है || New Song

Leave a Comment