Meri Maa Ke Barabar Koi Nahi Song Lyrics

Meri Maa Ke Barabar Koi Nahi Lyrics (हिन्दी & English) – Jubin Nautiyal

Meri Maa Ke Barabar Koi Nahi Lyrics: Meri Maa Ke Barabar Koi Nahi is Hindi Bhajan Sung by Jubin Nautiyal. Meri Maa Ke Barabar Koi Nahi music composed by Payal Dev. Meri Maa Ke Barabar Koi Nahi Lyrics Written by Manoj Muntashir.

Meri Maa Ke Barabar Koi Nahi Credits

Song: Meri Maa Ke Barabar Koi Nahi
Singer: Jubin Nautiyal
Music: Payal Dev
Lyrics: Manoj Muntashir
Label: T-Series
Genre: Navratri Bhajan

Meri Maa Ke Barabar Koi Nahi Lyrics

Meri Maa Ke Barabar Koi Nahi Lyrics in Hindi

ऊँचा है भवन ऊँचा मन्दिर
ऊँची है शान मईया तेरी
चरणों में झुके बादल भी तेरे
पर्वत पे लगे शैया तेरी

हे काल रात्रि हे कल्याणी
तेरा जोड़ धरा पर कोई नहीं
मेरी माँ के बराबर कोई नहीं
मेरी माँ के बराबर कोई नहीं

तेरी ममता से जो गेहरा हो
ऐसा तो सागर कोई नहीं
मेरी माँ के बराबर कोई नहीं
मेरी माँ के बराबर कोई नहीं

जैसे धरा और नदियां
जैसे फूल और बगिया
मेरे इतने ज़्यादा पास है तू

जब ना होगा तेरा आँचल
नैना मेरे होंगे जल-थल
जायेंगे कहाँ फिर मेरे आंसू

दुःख दूर हुआ मेरा सारा
अंधियारों में चमका तारा
नाम तेरा जब भी है पुकारा

सूरज भी यहाँ है चंदा भी
तेरे जैसा उजागार कोई नहीं
मेरी माँ के बराबर कोई नहीं
मेरी माँ के बराबर कोई नहीं

हे काल रात्रि हे कल्याणी
तेरा जोड़ धरा पर कोई नहीं
मेरी माँ के बराबर कोई नहीं
मेरी माँ के बराबर कोई नहीं

तेरे मंदिरों में मायी
मैंने जोत क्या जलायी
हो गया मेरे घर में उजाला

क्या बताऊँ तेरी माया
जब कभी मैं लड़खड़ाया
तूने 10 भुजाओं से सम्भाला

खिल जाती है सूखी डाली
भर जाती है झोली खली
तेरी ही मेहर है मेहरवाली

ममता से तेरी बढ़के मईया
मेरी तो धरोहर कोई नहीं
मेरी माँ के बराबर कोई नहीं
मेरी माँ के बराबर कोई नहीं

हे काल रात्रि हे कल्याणी
तेरा जोड़ धरा पर कोई नहीं
मेरी माँ के बराबर कोई नहीं
मेरी माँ के बराबर कोई नहीं

तेरी ममता से जो गेहरा हो
ऐसा तो सागर कोई नहीं
मेरी माँ के बराबर कोई नहीं
मेरी माँ के बराबर कोई नहीं

मेरी माँ के बराबर कोई नहीं
मेरी माँ के बराबर कोई नहीं

माँ मेरी माँ

मेरी माँ के बराबर कोई नहीं

Meri Maa Ke Barabar Koi Nahi Lyrics in English

Uncha hai bhawan, uncha mandir
Unchi teri shan hai maiya
Charno me jhuke baadal bhi tere
Parvat pe lage saiya teri

Hey Kalratri, hey Kalyani
Tera jod dhara par koi nahi
Meri Maa ke barabar koi nahi
Meri Maa ke barabar koi nahi

Teri mamta se jo gehra hai
Aisa to sagar koi nahi
Meri Maa ke barabar koi nahi
Meri Maa ke barabar koi nahi

Jaise dhara or nadiyan
Jaise phool or bagiya
Mere itne jyada paas hai tu
Jab na hoga tera aanchal
Mere naina honge jal-thal
Jayenge fir kahan mere aansu

Dukh door hua mera sara
Andhiyaro me chamka tara
Naam tera jab bhi pukara

Sooraj bhi yaha chanda bhi yaha
Tere jaisa ujagar koi nahi
Meri Maa ke barabar koi nahi
Meri Maa ke barabar koi nahi

Hey Kalratri, hey Kalyani
Tera jod dhara par koi nahi
Meri Maa ke barabar koi nahi
Meri Maa ke barabar koi nahi

Tere mandiro me maai
Maine jyot kya jalayi
Ho gaya mere ghar me ujaala
Kya batau teri maya
Jab kabhi main ladkhadaya
Tune 10 bhujao se sambhala

Khil jati hai sukhi daali
Bhar jati hai jholi khali
Teri hi meher hai Mehrawali

Mamta se teri badhke maiya
Meri to dharohar koi nahi
Meri Maa ke barabar koi nahi
Meri Maa ke barabar koi nahi

Hey Kalratri, hey Kalyani
Tera jod dhara par koi nahi
Meri Maa ke barabar koi nahi
Meri Maa ke barabar koi nahi

Teri mamta se jo gehra hai
Aisa to sagar koi nahi
Meri Maa ke barabar koi nahi
Meri Maa ke barabar koi nahi

Meri Maa, Meri Maa
Meri Maa, Meri Maa

Meri Maa ke barabar koi nahi

Jubin Nautiyal: Meri Maa Ke Barabar Koi Nahi | Payal Dev | Manoj Muntashir | Lovesh N |Bhushan Kumar

Leave a Comment